हमारे बारे में

कम्पोजिट विद्यालय तारा मुफ्तीगंज जौनपुर

जौनपुर। जिला मुख्यालय से करीब 32 किलोमीटर दूर आजमगढ़ जिले की सीमा पर स्थित मुफ्तीगंज विकास खंड तारा उमरी गांव में स्थित कंपोजिट विद्यालय का परिवेश ऐसा कि मानो यह कोई पर्यटन स्थल हो। दीवारों पर की गई पेंटिंग से विद्यालय में शाही पुल और इंडिया गेट ला दिया।। इतना ही नहीं विद्यालय के कमरों में प्रवेश करते हुए मैट्रो ट्रेन और हवाई जहाज के अंदर प्रवेश करने का एहसास होता है। इस परिषदीय विद्यालय की खूबसूरती ऐसी कि दूर दराज से भी छात्र यहां आकर सेल्फी लेते हैं।

सही काम में सही लोग

खास बात यह कि भौतिक परिवेश के साथ ही यहां का शैक्षणिक परिवेश भी ऐसा है कि शैक्षिक सत्र के शुरुआती महीने में भी यहां नामांकन क्लोज्ड का बोर्ड लगा दिया गया था। यहां छात्रों की संख्या साढ़े तीन सौ से अधिक है। कंपोजिट विद्यालय उमरी तारा के प्रभारी प्रधानाध्यापक राजेश सिंह के साथ यहां तैनात शिक्षकों की टीम ने लॉकडाउन में अपने प्रयास से विद्यालय की सूरत ही बदल दी|

प्रधानाध्यापक

राजेश सिंह

प्रमुख उपलब्धियां

खंड शिक्षा अधिकारी ने अभिभावकों से भी संपर्क कर उनसे अपने बच्चों का परिषदीय विद्यालयों में नाम लिखवाने को प्रेरित किया। विद्यालय में साफ-सफाई, खूबसूरत भौतिक परिवेश तथा गुणवत्ता पूर्ण शैक्षणिक कार्य के लिए प्रधानाध्यापक राजेश की प्रशंसा की। इस दौरान विद्यालय में बन रहे नवीन पुस्तकालय कक्ष के लिए कई सुझाव भी दिए।

हमारा लक्ष्य

अभी हमारा प्रयास है कि गांव के इन बच्चों को कान्वेंट स्कूल से भी बेहतर समाचीन और उद्दीपित शैक्षणिक वातावरण उपलब्ध कराएं। इस समय शिक्षा की नई अवधारणाएं भी इन बच्चो की पहुंच में लाएंगे।

आज विद्यालय का जो भी भौतिक एवं शैक्षणिक परिवेश है इसमें विद्यालय के सभी स्टाफ के साथ बीईओ संजय यादव का भी अहम योगदान है।